Uncategorized

हिंदी कविता |

मारना चाहते हो , तो बुरी इच्छावोंको मारो |
जीतना चाहते हो , तो क्रोध और तृष्णाओंको जीतो |
खाना चाहते हो ,तो गुस्से को खाओ |
पीना चाहते हो , तो ईश्वर भक्ति का शर्बत पीओ |
पहनना चाहते हो, तो नेकी का जामा पहनो |
देना चाहते हो, तो दुखियों को सहायता दे दो |
लेना चाहते हो, तो माता- पिता और गुरू का आशीर्वाद लो |
जाना चाहते हो, तो सत्संगों एवं शान्तिप्रद स्थानों पर जाओ |
आना चाहते हो , तो समाज सेवा करने आओ |
छोड़ना चाहते हो, तो पाप, घमंड, और दुराचार को छोड़ो |
बोलना चाहते हो, तो सत्य और मीठे वचन बोलो |
बनाना चाहते हो, तो पाठशाला, धर्मशाला, कुएँ और तालाब बनवाओं |
खरीदना चाहते हो, तो प्रेम का सौधा खरीदो |
तोलना चाहते हो, तो बात को तोलो |
देखना चाहते हो, तो अपनी बुराई को देखो |
सुनना चाहते हो, तो ईश्वर की प्रशंसा और दुखियों की पुकार सुनो |
भागना चाहते हो, तो पराई निंदा और पराई चीज़ों से भागो |
मूल :संग्रह |

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s